मुर्गी पालन के लिए कौन सा बैंक लोन देता है, जाने सब्सिडी व अप्लाई करने का तरीका

मुर्गी पालन का व्यवसाय अब देश के ग्रामीण इलाकों में भी काफी प्रचलित हो चुका है। अगर वैज्ञानिक तरीके से मुर्गी पालन में मेहनत की जाय तो तो यह एक लाभदायक व्यवसाय हो सकता है। अगर आप इस व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं, तो आपको लोन की आवश्यकता हो सकती है। कई बैंक और सरकारी योजनाएं मुर्गी पालन के लिए लोन प्रदान करती हैं, जिनमें सब्सिडी का भी प्रावधान है। इस पोस्ट में हम बैंक व गवर्नमेंट के द्वारा चलायी जा रही योजनाओं के बारे में, लिमिट, सब्सिडी व आवेदन प्रक्रिया की जानकारी दे रहे हैं –

कौन से बैंक देते हैं मुर्गी पालन के लिए लोन –

आपको मुर्गी पालन के लिए लोन, सरकारी व प्राइवेट दोनों तरह के बैंकों से मिल जायेगा। यह लोन पशुपालन व्यवसाय के लिए दिए जाने वाले ऋणों के अंतर्गत आता है। प्रमुख बैंकों में पशुपालन लोन की ब्याज दरें 7 प्रतिशत से अधिक हो सकती हैं। यहाँ हमने प्रमुख बैंकों के नाम दिए हैं –

  • भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) –
  • पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी)
  • बैंक ऑफ बड़ौदा
  • इंडियन बैंक
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (यूबीआई)
  • एचडीएफसी बैंक
  • आईसीआईसीआई बैंक
  • एक्सिस बैंक
  • कोटक महिंद्रा बैंक
  • यस बैंक

गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी):

  • नाबार्ड
  • एमएसएमई लोन
  • कृषि विकास वित्तीय निगम (नाबार्ड)

मुर्गीपालन लोन के लिए सहायक सरकारी योजनायें –

राष्ट्रीय पशुधन मिशन – यह योजना अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और महिलाओं सहित लघु और सीमांत किसानों को मुर्गी पालन के लिए सब्सिडी प्रदान करती है। सभी प्रकार के पशुपालक किसान योजना में पात्र हैं और लोन लेकर अपना व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड): नाबार्ड मुर्गी पालन सहित विभिन्न कृषि गतिविधियों के लिए ऋण पुनर्भर्ती योजना (आरआरएस) के तहत सब्सिडी प्रदान करता है। योजना में आवश्यकता अनुसार लोन मिल सकता है।

  • आप नाबार्ड की आधिकारिक वेबसाइट https://www.nabard.org/ से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  • आप नाबार्ड की किसी भी शाखा में जाकर भी आवेदन कर सकते हैं।
  • आवेदन पत्र को सभी आवश्यक दस्तावेजों के साथ जमा करें।

कमजोर वर्गों के लिए मुर्गी पालन विकास योजना: यह योजना अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लोगों को मुर्गी पालन के लिए लोन और सब्सिडी प्रदान करती है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना: अब भारत सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड के अंतर्गत पोल्ट्री फॉर्म चलाने वाले या इच्छुक किसानों को भी जोड़ दिया है। इसके अंतर्गत आप 3 लाख रुपये तक लोन ले सकते हैं। इसकी ब्याज दरें  7 प्रतिशत सालाना होती हैं, जबकि सरकार ब्याज पर 3 प्रतिशत की सब्सिडी भी देती है।

(पोल्ट्री फार्म लोन) मुर्गी पालन लोन के लिए आवेदन कैसे करें –

  • बैंक या एनबीएफसी की शाखा में जाएं।
  • लोन आवेदन फॉर्म भरें।
  • आवश्यक दस्तावेज जमा करें, जैसे कि:
    • पहचान प्रमाण (आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी)
    • पते का प्रमाण (बिजली बिल, राशन कार्ड)
    • जाति प्रमाण पत्र (यदि लागू हो)
    • व्यवसाय योजना
    • वित्तीय विवरण
  • बैंक या एनबीएफसी आपके आवेदन का मूल्यांकन करेगा और लोन राशि और ब्याज दर को मंजूरी देगा।
  • लोन स्वीकृत होने पर, आपको ऋण समझौते पर हस्ताक्षर करना होगा।

सारांश –

मुर्गी पालन एक लाभदायक व्यवसाय हो सकता है, लेकिन इसके लिए शुरुआती निवेश की आवश्यकता होती है। लोन और सब्सिडी योजनाएं इस व्यवसाय को शुरू करने में आपकी मदद कर सकती हैं। ऋण आवेदन करने से पहले सभी जानकारी प्राप्त कर लें और अपनी आवश्यकताओं के अनुसार सबसे अच्छा विकल्प चुनें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *