क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन में क्या बेहतर है, इस वजह से लोग बन जाते हैं बेवकूफ

क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन में क्या बेहतर है

हमें अपने जीवन में कभी-ना-कभी तत्काल पैसे की जरूरत पड़ जाती है। ऐसी स्थिति में हम क्रेडिट कार्ड या फिर पर्सनल लोन के माध्यम से अपनी जरूरतों को पूरा करते हैं। ये दोनों चीजें देखने में भले ही एक जैसे लगते हों, लेकिन इन दोनों में कई सारे मूलभूत अंतर पाए जाते हैं। इन दोनों का समझदारी से इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद हो सकता है, वहीं अगर आप गलत तरीके से इस्तेमाल करते हैं तो आपको आर्थिक नुकसान उठाना पड़ सकता है। अगर आपके मन में भी सवाल है कि क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन में से क्या बेहतर है तो इस आर्टिकल को पूरा अंत तक पढ़ें। आगे हम आपको इन दोनों के फायदे, नुकसान तथा अंतर के बारे में संपूर्ण जानकारी देंगे –

‘क्रेडिट कार्ड’ और ‘पर्सनल लोन’ क्या है?

क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन बैंक या किसी वित्तीय संस्थान द्वारा दिया जाने वाला अनसिक्योर्ड लोन है। इसका मतलब है कि आपको क्रेडिट कार्ड या पर्सनल लोन लेने के लिए अपनी किसी वस्तु या चल-अचल संपत्ति को बैंक के पास गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं होती है।

क्रेडिट कार्ड ATM कार्ड जैसा होता है। बैंक आपकी Eligibility के अनुसार आपको एक क्रेडिट लिमिट देती है। आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल ऑनलाइन शॉपिंग, रिचार्ज, ट्रेन/बस/फ्लाइट टिकट, ऑनलाइन पेमेंट तथा अपनी जरुरत के अनुसार कैश निकालने में कर सकते हैं। आप बैंक द्वारा दी गई क्रेडिट लिमिट में से जितने पैसे खर्च करेंगे, आपको वापस बैंक को उतना ही ब्याज सहित भुगतान करना होगा।

पर्सनल लोन, बैंक या कोई वित्तीय संस्थान ग्राहक के व्यक्तिगत क्रेडिट पर प्रदान करती है। इसमें आपको बैंक के पास कोई कोई वस्तु, जमीन के कागजात आदि जमा करने की आवश्यकता नहीं होती है। पर्सनल लोन का इस्तेमाल आप अपनी आवश्यकता अनुसार शिक्षा, चिकित्सा, बिजनेस, ट्रैवल आदि में कर सकते हैं।

अगली पोस्ट – 5 लाख का पर्सनल लोन पांच साल के लिए, किस बैंक की EMI सबसे कम

पर्सनल लोन के फायदे –

  • क्रेडिट कार्ड की तुलना में पर्सनल लोन की ब्याज दरें काफी कम होती है।
  • पर्सनल लोन प्राप्त करने के लिए आपको अपनी कोई भी वस्तु या संपत्ति बैंक के पास गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • अगर आप किसी काम के लिए एकमुश्त पैसा लेना चाहते हैं, तो आपके लिए पर्सनल लोन से सबसे अच्छा है।
  • अगर आप किसी बैंक के पुराने ग्राहक हैं तो वह बैंक काफी आसानी से पर्सनल लोन दे देती है।

क्रेडिट कार्ड के फायदे –

  • क्रेडिट कार्ड, लोन की तुलना में आसानी से मिल जाता है।
  • इसके लिए आपको ज्यादा दस्तावेज देने की जरूरत नहीं पड़ती है।
  • कई सारे बैंक व वित्तीय संस्थान से आप घर बैठे क्रेडिट कार्ड प्राप्त कर सकते हैं।
  • क्रेडिट कार्ड से आप जितना खर्च करेंगे, उतने का ही ब्याज देना होगा।
  • कई क्रेडिट कार्ड शून्य ब्याज दर पर पुनर्भुगतान की सुविधा देते हैं।

कई क्रेडिट कार्ड कंपनियां एयरपोर्ट पर फ्री लाउंज एक्सेस, क्रेडिट प्वाइंट्स, ऑनलाइन शापिंग पर एक्स्ट्रा डिस्काउंट आदि की भी सुविधा देती है।

अगली पोस्ट – सिविल स्कोर कम होने पर कैसे लोन मिलेगा

पर्सनल लोन के नुकसान –

  • पर्सनल लोन पर ब्याज दरें 12% से लेकर 36% तक हो सकती है।
  • इसमें ब्याज के अलावा प्रोसेसिंग फीस जैसे अतिरिक्त शुल्क भी देने पड़ते हैं।
  • अगर आप तय समय पर अपना लोन नहीं चुकाते हैं, तो आपको पेनल्टी भी देनी पड़ सकती है।
  • क्रेडिट कार्ड की तुलना में पर्सनल लोन की पात्रता व शर्तें अधिक कड़ी होती है।
  • क्रेडिट कार्ड की तुलना में पर्सनल लोन लेने में अधिक समय लगता है।

क्रेडिट कार्ड के नुकसान –

  • Credit Card का ब्याज दर काफी अधिक होता है।
  • प्रायः क्रेडिट कार्ड कंपनियां प्रोसेसिंग फीस, एनुअल फीस आदि के नाम पर ग्राहकों से काफी चार्ज वसूलती है।
  • क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने के लिए आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा होना जरूरी है।
  • क्रेडिट कार्ड कंपनियां अपने ग्राहकों को अधिक खर्च करने के लिए प्रोत्साहित करती है, जिसके कारण लोग अनावश्यक खर्च करने लगते हैं।

निष्कर्ष –

दोस्तों, इस आर्टिकल में हमने आपको क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन क्या है, इस दोनों के फायदे, नुकसान आदि के बारे में संपूर्ण जानकारी दी है। आप सभी चीजों को अच्छी तरह पढ़ने-समझने के बाद ही कोई फैसला लें। कोई भी क्रेडिट कार्ड या पर्सनल लोन लेने से पहले उसके सभी नियमों व शर्तों, ब्याज दर तथा चार्जेस के बारे में जानकारी अवश्य ले लें।

अगली पोस्ट – इमरजेंसी लोन कैसे मिलेगा, क्या करना होगा तुरंत लोन चाहिए तो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *