बिना गिरवी रखे लोन लेना होगा कठिन, असुरक्षित लोन पर RBI के नए नियम

असुरक्षित लोन पर RBI के नए नियम

असुरक्षित लोन पर RBI के नए नियम: मोबाइल व इन्टरनेट बैंकिंग के बढ़ते प्रचलन के साथ ही देश में क्रेडिट कार्ड रखने वालों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है। वहीँ बैंकों ने भी क्रेडिट कार्ड लोन व पर्सनल लोन भी आसानी से मुहैया करवाने पर जोर दिया है, जिससे आम लोगों को लोन भी पहले की तुलना में काफी जादा मिलने शुरू हो गए हैं।

जादा लोन पास होने के पीछे का कारण यह है कि बैंकों ने पर्सनल लोन व क्रेडिट कार्ड लोन पर बिना कोलेटरल (गिरवी) लिए भी कुछ लिमिट तक ऋण पास किये हैं। इससे यह स्पस्ट है कि बैंकों ने बड़े स्तर पर असुरक्षित लोन, लोगों को दिए हैं। जिससे लोन डिफाल्टर की संख्या भी बढ़ी है। लेकिन दूसरी तरफ बैंकों ने असुरक्षित लोनों पर जादा ब्याज दरें लगाकर ज्यादा मुनाफा भी कमाया है।

असुरक्षित लोन पर RBI के नए नियम –

प्रमुख बैंकिंग सूचनाएँ देने वाले सूत्रों के अनुसार RBI, असुरक्षित लोनों के बढ़ते प्रचलन व डिफाल्ट की बढती संभावनाओं पर चिंता जाहिर की है। आने वाले महीने में रिज़र्व बैंक इस सम्बन्ध में कोई गाइडलाइन भी जारी कर सकता है। इससे सीधे तौर पर हम और आप जैसे क्रेडिट कार्ड व पर्सनल लोन लेकर काम चलाने वालों पर असर पड़ सकता है।

Also Read: अलगे 3 महीने आईसीआईसीआई बैंक होम लोन मिलेगे सस्ते, आई नयी अपडेट 

RBI को बैंकों की असुरक्षित लोन पालिसी से क्या है दिक्कत –

आपको बतादें कि रिज़र्व बैंक को पर्सनल लोन व क्रेडिट कार्ड लोन जैसे असुरक्षित लोनों की बड़ी मात्रा में डिफ़ॉल्ट होने की संभावनाओं से दिक्कत है। क्योंकि आंकड़ों के अनुसार क्रेडिट कार्ड पर उठायें गए लोन की रकम एक साल  में 1.54 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 2 लाख करोड़ रुपये हो गई है।

यही नहीं अब लोन ले चुके ग्राहकों में क्रेडिट कार्ड व पर्सनल लोन देरी से चुकाने वालों व डिफाल्टरों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। बढती महंगाई व जादा लोन बाँटने पर अर्थव्यवस्था की असुरक्षा को देखते हुए रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने क्रेडिट कार्ड पर लोन व पर्सनल लोन पर कुछ सख्त नियम बना सकता है।

क्रेडिट कार्ड लोन व पर्सनल लोन लेने वालों पर क्या नियम हो सकते हैं लागू –

  • ग्राहकों के क्रेडिट स्कोर कम होने पर लोन मिलने दिक्कत आ सकती है
  • क्रेडिट कार्ड अप्लाई करने में नए नियम लगेंगे जिससे कम आय वाले लोगों को क्रेडिट कार्ड बनवाने में समस्या हो सकती है
  • क्रेडिट कार्ड धारकों को लोन लिमिट में कमी व ब्याज दरों में बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है
  • पर्सनल लोन एप्लीकेशन का अप्रूवल आसानी से नहीं मिलेगा, क्यों कि अब बैंक आवेदक के लेन देन व बैकग्राउंड चेक करने पर काम करेगा।
  • पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड पर मिलने वाले लोन पर कोलेटरल देना पड़ सकता है।

 

Also Read: सबसे सस्ती ब्याज दरों पर पर्सनल लोन देने वाले बैंक की लिस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *